Help Hindi Me

क्विनोआ के 11 फायदे और नुकसान

क्विनोआ के फायदे और नुकसान | Quinoa Benefits and Side Effects in Hindi

क्विनोआ के 11 फायदे और नुकसान | Quinoa Benefits and Side Effects in Hindi

प्रकृति की गोद में अनेकों ही जड़ी बूटियां समाई है। इन जड़ी-बूटियों के अनेकों ही आयुर्वेदिक फायदे हैं। इन जड़ी बूटियों में ऐसी ही एक दिव्य औषधि है क्विनोआ

इसका बॉटनिकल नाम ‘Chenopodium quinoa’ है। यह दक्षिण अमेरिका के ऐन्डीज़ पर्वत में पाया जाता है। देखने में यह पौधा 1 से 2 मीटर तक लंबा होता है इसमें बहुत सुंदर फूल भी आते हैं। खासकर इसके बीजों को उपयोग में लाया जाता है। यह बहुत ही गंभीर समस्याओं का इलाज करने में भी फायदेमंद साबित हुए हैं। यह गुणकारी खाद्य पदार्थ बाजार में उपलब्ध है और इसकी अनेकों प्रकार की वैरायटी आज बाजार में मिलती है।

सफेद क्विनोआ-

यह सबसे आम तरीके का क्विनोआ है। जो बाजार में बहुत आसानी से मिल जाता है। यह देखने में सफेद रंग का होता है। अंग्रेजी भाषा में इसे ‘आईवरी क्विनोआ’ के नाम से भी जानते हैं।

लाल क्विनोआ-

यह देखने में लाल रंग का होता है अगर इसे पकाया जाए तब भी इसका रंग लाल ही रहता है।

काला क्विनोआ-

यह देखने में हल्के भूरे रंग या फिर काले रंग का होता है यदि इसको पकाया जाए तब भी इसका स्वाद मीठा रहता है और रंग काला ही बना रहता है।



खरबूजे खाने के फायदे

क्विनोआ के फ़ायदे (Benefits of Quinoa in Hindi)

वजन कम करने में सहायक है क्विनोआ

क्विनोआ उन लोगों के लिए काफी फायदेमंद है जिनका वजन दिन पर दिन बढ़ता ही जा रहा है। इसके सेवन से मोटापे की समस्या को काफी हद तक कंट्रोल में किया जा सकता है। यह बात एक शोध द्वारा सिद्ध की गई है कि क्विनोआ में ऐसे तत्व पाए जाते हैं जिनका नाम betaine है। यह रसायनिक तत्व व्यक्ति के मोटापे को कंट्रोल करने में काफी मददगार सिद्ध हुए हैं। इसमें मौजूद प्रोटीन मेटाबॉलिज्म को बढ़ाने में मदद करता है जिससे पाचन तंत्र पहले से बेहतर तरीके से काम करता है तथा खाना पचने लगता है। इसमें कई प्रकार के फाइबर भी मौजूद हैं जो पेट को काफी समय तक भरा हुआ रखते हैं जिससे बार बार भूख नहीं लगती। इसका ग्लाइसेमिक इंडेक्स काफी कम है इसलिए यह हेल्दी वेट लॉस डाइट की कैटेगरी में शामिल है।

कोलेस्ट्रॉल करे नियंत्रित

क्विनोआ ह्रदय संबंधित रोगों को सही करने के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है। इसकी पुष्टि एक शोध से भी हुई है इस शोध में यह साबित हुआ है कि क्विनोआ में मिलने वाले तत्व ट्राइग्लिसराइड सिरम को कम करने में काफी मदद करते हैं। यदि ट्राइग्लिसराइड कम हो जाए तो हृदय से संबंधित बहुत से जोखिम भी कम हो जाते हैं क्विनोआ पोटैशियम से भरपूर है इसलिए यह दिल की धड़कन को कंट्रोल में रखने के लिए काम करता है। यह दिल में गुड कोलेस्ट्रॉल के बनने की प्रक्रिया को बढ़ाता है और बैड कोलेस्ट्रॉल को जमा होने नहीं देता।

मधुमेह में फायदेमंद

मधुमेह की समस्या आजकल बढ़ती ही जा रही है। यह बहुत ही गंभीर शारीरिक विकार है जिसकी वजह से शरीर की रक्त वाहिकाओं में शुगर की मात्रा ज्यादा हो जाती है। अगर इसको समय पर कंट्रोल नहीं किया जाता तो यह शरीर के अन्य अंगों को भी नुकसान पहुंचाना शुरू कर देती है। क्विनोआ एक संपूर्ण अनाज (whole wheat) की कैटेगरी में आता है। यह मधुमेह के लिए काफी फायदेमंद माना जाता हैं। एक शोध से यह भी पता चला है कि यदि टाइप 2 डायबिटीज के रोगियों को सुबह और दोपहर के समय क्विनोआ के बीजों का सेवन कराया जाए तो उन्हें डायबिटीज से काफी फायदा मिलता है यह शरीर में इंसुलिन की मात्रा को बढ़ाकर बड़ी हुई ब्लड शुगर को कंट्रोल में करती है।



मखाने के फायदे

रक्तचाप करे कंट्रोल

क्विनोआ के बीजों को रक्तचाप को कंट्रोल करने वाला भी माना जाता है क्योंकि इसमें बहुत से एंटी-हाइपरटेंसिव तत्व पाए जाते हैं जिनके प्रभाव से शरीर में बढ़ा हुआ रक्तचाप कंट्रोल हो जाता है।

डेंड्रफ भगाए दूर

क्विनोआ में बहुत से ऐसे प्रोटीन मौजूद होते हैं जो बालों की सेहत का खास ध्यान रखते हैं और यह प्रोटीन डैंड्रफ की समस्या से निजात पाने में भी काफी मददगार होते हैं। यदि क्विनोआ को उबालकर इसका पेस्ट बनाकर ठंडा होने पर स्कैल्प पर लगाया जाए और 15 से 20 मिनट बाद धो लिया जाए तो धीरे-धीरे डैंड्रफ खत्म होने लगता है। प्रोटीन से भरपूर होने की वजह से यह बालों की सेहत का भी खास ध्यान रखता है तथा उन्हें स्वस्थ बनाए रखने में सहायता करता है।

शारीरिक विकास में करें मदद

यह शरीर की कोशिकाओं की रिपेयरिंग में काफी मददगार होता है। विशेषज्ञों का यह मानना है कि यह प्रोटीन से भरपूर होता है। प्रोटीन, अमीनो एसिड से बने होते हैं जो शरीर की कोशिकाओं की मरम्मत करने में काफी मदद करते हैं। यह शरीर की कोशिकाओं के विकास के लिए भी जिम्मेदार होते हैं। इनमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट प्रॉपर्टी कोशिकाओं को हानि से बचाती है और उनके विकास में काफी हद तक मदद करती है।



अजवाइन के फायदे

हड्डियों को दे मज़बूती

बढ़ती उम्र के साथ अक्सर महिलाओं में ऑस्टियोपोरोसिस की समस्या देखने को मिलती है और यह एक ऐसी बीमारी है जिसमें हड्डियां अंदर से खोखली होने लगती है। क्विनोआ में इस बात की क्षमता है कि वह अंदर से खोखली हुई हड्डियों में भी दोबारा से जान भर सकती है इसके पीछे की वजह है इसमें मौजूद beta-Ecdysone। क्विनोआ, जो हड्डियों के घुलने/खोखली होने की प्रक्रिया को रोककर उन्हें मजबूती प्रदान करता है।

चमकदार त्वचा

क्विनोआ त्वचा को चमकदार बनाए रखने में काफी मदद प्रदान करती है। एक शोध से यह बात पता चली है कि इसमें saponins मौजूद होते हैं। यह saponins, त्वचा की प्राकृतिक फ्लैक्सिबिलिटी को बढ़ाकर उन्हें चमकदार बनाने में मदद करते हैं इसमें मौजूद विटामिन B12 मेटाबॉलिज्म में सुधार लाने का काम करती है।

कैंसर से दे सुरक्षा

क्विनोआ को कैंसर जैसी घातक बीमारी का इलाज करने के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है। विशेषज्ञों द्वारा किए गए शोध से इस बात का पता चला है कि इसमें एंटी कैंसर तत्व मौजूद होते हैं जो मुख्य रूप से लीवर और ब्रैस्ट कैंसर की रोकथाम के लिए काम करते हैं।



जीरा के फायदे

एनीमिया में मददग़ार

क्विनोआ, एनीमिया से ग्रसित रोगियों के लिए भी काफी अच्छा साधन है। एक शोध से यह पता चला है कि यह आयरन से भरपूर होता है और इसमें एंटी-ऎनेमिक प्रॉपर्टी होती है जिसकी वजह से यह शरीर में हीमोग्लोबिन की मात्रा को बढ़ाकर एनीमिया से निजात दिलाने में मदद करता है।

पाचन क्रिया सुधारे

यह डाइजेस्टिव सिस्टम को सुधारकर digestion के प्रोसेस को बेहतर बनाता है। एक शोध से यह पता चला है कि इसमें trypsin inhibitors बहुत कम मात्रा में मौजूद होता है, trypsin inhibitors ज्यादातर डाइजेशन प्रोसेस को रोकने के लिए काम करते हैं।

वहीं दूसरी ओर इसमें मौजूद फाइबर पेट में गुड बैक्टीरिया की ग्रोथ को बढ़ावा देते हैं जो पाचन करने में सहायक होते हैं इसलिए यह पाचन क्रिया सुधारने में काफी मददगार होता है। यह gluten-free भी है इसलिए जिन लोगों को अनाज से एलर्जी है वह क्विनोआ को अपने आहार में शामिल कर सकते हैं।

क्विनोआ के नुकसान (Side-Effects of Quinoa in Hindi)

1. क्विनोआ को वजन कम करने के लिए ज्यादा इस्तेमाल में लाया जाता है इसलिए जिन लोगों का वजन पहले से ही कम है वह इसका सेवन न करें तो बेहतर रहेगा।

2. यह ब्लड शुगर को कम करने में सक्षम है इसलिए जो रोगी डायबिटीज की दवा लेते हैं वह इसका साथ में सेवन न करें। डायबिटीज के रोगी इसका सेवन करने से पहले डॉक्टरी परामर्श जरूर ले।

3. इसमें बहुत से हाइपरटेंसिव गुण मौजूद है इसलिए जिन लोगों को लो बीपी की समस्या है वह इसको लेने से परहेज करें।

हर चीज के फायदे और नुकसान होते है, क्विनोआ के भी अपने फायदे और नुकसान हैं, आपको सलाह दी जाती है इसका सेवन करने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श जरूर ले लें।



दही के फायदे

क्विनोआ बनाने की रेसिपी

सामग्री:- इसका व्यंजन बनाने के लिए आपको वनस्पति तेल, एक कटा हुआ प्याज ,1 चम्मच लहसुन का पेस्ट, 3-4 कप क्विनोआ, 1चम्मच जीरा, 1/2 कप सब्जियों का सूप, 1/4 चम्मच लाल मिर्च ,1 कप फ्रोजन मकई और आधा चमच्च कटा हरा धनिया, एक एवोकैडो, नमक और काली मिर्च की जरूरत होगी।

प्रक्रिया:-

इसकी सब्जी बनाने के लिए पहले क्विनोआ को धो ले इसके बाद एक पैन को मध्यम आंच पर रखें, उसमें कुछ तेल डालें फिर प्याज- लहसुन को डालें और सोते करें। बाद में इसमें सब्जियों का सूप डाले। अब इसमें क्विनोआ डालें। फिर इसमें नमक, मिर्च, मसाले आदि डालें। जब मिश्रण उबलने लग जाए तो इसको 20 मिनट के लिए धीमी आंच पर ढककर रख दें और उबलने दें। उबलने के बाद इसमें नींबू का रस डालें और थोड़ी सी मकई डालें। इन को अच्छी तरह से मिक्स करें और अब 5 मिनट तक उबलने दें। अब इसके ऊपर हरा धनिया और कटे हुए एवोकैडो के साथ गार्निश करें। आप इसे गर्म या ठंडा जैसा भी चाहे परोस सकते हैं।



गिलोय के फायदे

Author:

Geeta Verma Malhotra
M.Pharmacy (Ayurved)
Lovely Professional University, Punjab

Exit mobile version