HINDI KAVITA: अस्तित्व बचाइए

अस्तित्व बचाइए

जल,जंगल और जमीन
ये प्रकृति का उपहार है,
पर्यावरण का ही नहीं
हर प्राणी का
जीवन आधार है।


इसका संरक्षण, सम्मान
सबकी जिम्मेदारी है,
इनकी उपेक्षा हम सब पर
पड़ने वाली भारी है।
बाढ़,सूखा, ऊसर,भूस्खलन से
जमीन को बचाना है तो
अधिक से अधिक
वृक्ष लगाना होगा,
जंगलों का दायरा बढ़ाना होगा,
जमीन पर हरियाली का
परचम लहराना होगा।


जल संरक्षण करना ही होगा,
वरना जीवन से भी
दो दो हाथ करना होगा।


जल के बिना कुछ भी न होगा
न ही मानव,न ही पशु,पक्षी, जानवर
न ही वृक्षों का जीवन होगा,
इन सबके बिना फिर
इस संसार का
अस्तित्व भी नहीं होगा।


कंक्रीट के जंगलो में
भला जीवन कहाँ होगा?
अब भी समय है
आगे आइये,
जल,जंगल, जमीन के प्रति
अपनी जिम्मेदारी निभाइये,
इनसे अपनी प्रीत बढ़ाइये,
जीवन का अस्तित्व बचाइए।

Read Also:
HINDI KAVITA: राम मंदिर
HINDI KAVITA: हिन्दी पढ़ाओ
HINDI KAVITA: लौटकर नहीं आओगी
HINDI KAVITA: पल

अगर आप की कोई कृति है जो हमसे साझा करना चाहते हो तो कृपया नीचे कमेंट सेक्शन पर जा कर बताये अथवा [email protected] पर मेल करें.

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...

About Author:

सुधीर श्रीवास्तव
शिवनगर, इमिलिया गुरूदयाल
बड़गाँव, गोण्डा, उ.प्र.,271002