Hindi Poetry on Women

Hindi Poetry on Women
नारी एक ज्वाला Hindi Poetry on Women Hindi Kavita Hindi Poem

नारी एक ज्वाला

ममता की मूर्ति नारी
सृष्टि क्रम को गतिमान रखती नारी
ममता,दया करुणा की प्रतिमूर्ति
त्याग की देवी नारी,

स्व को भूल प्रेम रस बरसाती
दो कुंदों का मान बढ़ाती
हर पल अपने सपनों की आहुति देकर भी
नहीं पछताती, रिश्तों को बाँधकर
रखने का हर जतन करती
बहन शक्ति की मिसाल नारी।

मगर जब उसे और उसकी गरिमा को
चोट पहुंचाने की कोशिश होती है तब
ज्वाला बन जाती है नारी
मुँहतोड़ जवाब देने के लिए
कमर कसकर मजबूती से
अपनी मजबूती से अपनी ताकत का

अहसास कराती है नारी
वह समय अब नहीं रहा
जब नारी सिर्फ कोमल
और कमजोर मानी जाती थी,
आज की नारी एक ज्वाला बन चुकी है,
हर क्षेत्र में अपना लोहा मनवा रही है।

माँ

काँपती थरथराती कलम मेरी
माँ पर मैं क्या लिख सकता हूँ?
जिसने मुझे लिखा
उस माँ को मैं भला कौन सा शब्द दे सकता हूँ।

हजारों लाखों लोग माँ पर लिखने का
हर रोज बीड़ा उठाते हैं,
पर बीच में ही तैरते रह जाते हैं।
काफी कुछ लिखा गया है
और लिखा जाता रहेगा अनंत काल तक
पर माँ पर संपूर्ण लेखन नहीं हो पायेगा।

क्योंकि माँ संपूर्ण है
माँ के सामने धरती आकाश ही नहीं
ईश्वर भी नतमस्तक है, मौन है,
फिर भला संपूर्ण को कौन पूर्ण कर पायेगा,
बस इतना भर होता है, होता रहेगा
माँ लिखने वाला हर कोई
माँ के ममत्व का अहसास कर पायेगा।

माँ पर कुछ लिख सकूँ,न लिख सकूँ
पर मैँ इतना तो कर ही जाऊंगा
माँ, माँ और माँ तो जरूर लिख पाऊँगा
माँ पर लिखने का सपना
माँ लिखकर तो पूरा कर ही जाऊंगा।

Loudspeakerहिंदी कविता: अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस विशेष

Loudspeakerहिंदी कविता: प्रकृति का कहर

Loudspeakerहिंदी कविता: न समय कम न काम ज्यादा

अगर आप की कोई कृति है जो हमसे साझा करना चाहते हैं तो कृपया नीचे कमेंट सेक्शन पर जा कर बताये अथवा [email protected] पर मेल करें.

कृपया कविता को फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और whats App पर शेयर करना न भूले, शेयर बटन नीचे दिए गए हैं। इस कविता से सम्बंधित अपने सवाल और सुझाव आप नीचे कमेंट में लिख कर हमे बता सकते हैं।

Author:

Sudhir Shrivastava
Sudhir Shrivastava

सुधीर श्रीवास्तव
गोण्डा, उ.प्र.