HINDI KAVITA: प्रार्थना

प्रार्थना

हे प्रभु! नमन मेरा स्वीकार करें
इस अज्ञानी का भी उद्धार करें ।

तेरी पूजा आराधना का
कुछ ज्ञान नहीं मुझे,

बस शीश झुकाना आता है
बस इतने से ही स्वीकार करो।

न मैं जानू पूजा आरती
न कर पाऊं वंदन,

बस आता है प्रभु मुझको
चरणों में तेरे सिर झुका कर
करता हूं अभिनंदन ।

स्वीकार करो हे प्रभु मेरा
शत शत शत वंदन ,
शीश झुका चरणों में तेरे
शत-शत करता रहूं अभिनंदन।

बस इतना ही आता मुझको
शेष नहीं है ज्ञान,
बस इतनी सी कृपा करो प्रभु
नित करता रहूँ नमन वंदन।

Read Also:
हिंदी कविता: गुरु महिमा
हिंदी कविता: सच है
हिंदी कविता: माँ
हिंदी कविता: महफ़िल महफ़िल सहरा सहरा

अगर आप की कोई कृति है जो हमसे साझा करना चाहते हो तो कृपया नीचे कमेंट सेक्शन पर जा कर बताये अथवा [email protected] पर मेल करें.

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...

About Author:

सुधीर श्रीवास्तव
शिवनगर, इमिलिया गुरूदयाल
बड़गाँव, गोण्डा, उ.प्र.,271002