लेख: रक्तबीज

रक्तबीज

आज मेरी पत्नी बहुत परेशान थी। इन दिनों अखबारों में महिलाओं के साथ हो रही घटनाओं की खबरों नें उसे डरा दिया है,तभी तो वह बेटी को स्कूल भेजने को अब तैयार नहीं है।

मैनें उसे लाख समझाया पर वह कुछ भी सुनने को तैयार नहीं थी। उसके इस सवाल का मेरे पास कोई जवाब नहीं था कि रक्त बीज की तरह पैदा हो रहे इन दरिंदों से कोई अपनी बहन बेटी को कैसे बचाये?

आखिर वो एक माँ होने के साथ साथ एक औरत भी है।इसलिए उसके पास उस डर को महसूस करने का भाव हम मर्दों से कहीं अधिक है।

उसका डर जायज है और तर्क संगत भी।परंतु घर में बेटी को कैद कर उसका भविष्य भी तो बरबाद नहीं किया जा सकता।

अंततः किसी तरह समझा बुझाकर मैनें आत्म रक्षा के लिए पत्नी और बेटी दोनों को कराटे का प्रशिक्षण दिलाने का आज से ही फैसला कर लिया।

अब उसे थोड़ा सूकून का अहसास हो रहा था।शायद रक्तबीजों से उसका डर कुछ कम हुआ था।

Read Also:
रघु की दीवाली
खूनी जंगल
शुभकामनाएं

अगर आप की कोई कृति है जो हमसे साझा करना चाहते हो तो कृपया नीचे कमेंट सेक्शन पर जा कर बताये अथवा [email protected] पर मेल करें.

यह कविता आपको कैसी लगी ? नीचे 👇 रेटिंग देकर हमें बताइये।

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...

कृपया फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और whatsApp पर शेयर करना न भूले 🙏 शेयर बटन नीचे दिए गए हैं । इस कविता से सम्बंधित अपने सवाल और सुझाव आप नीचे कमेंट में लिख कर हमे बता सकते हैं।

About Author:

सुधीर श्रीवास्तव
शिवनगर, इमिलिया गुरूदयाल
बड़गाँव, गोण्डा, उ.प्र.,271002