Hindi Kavita on Yuddh Aur Sadbhaavana

Hindi Kavita on Yuddh Aur Sadbhaavana
Hindi Kavita on Yuddh Aur Sadbhaavana

व्यंग्य: युद्ध और सद्भावना

आइए! कुछ नया करते हैं
सद्भावना की आड़ में युद्ध करते हैं,
आखिर क्या रखा है सद्भावना में
कुछ नहीं बचा है आज
औपचारिक बनी सद्भावना में।

सद्भावना के चक्कर में न पड़िए
युद्ध की पृष्ठभूमि तैयार कीजिए
अपने आप को व्यस्त रखने का
सूत्रपात कीजिए।
युद्ध का अपना मजा है,

मरना मारना बिल्कुल नहीं मना है।
डर डर कर जीने का आनन्द लीजिए
मौका जैसा भी मिले
सामने से या पीठ पीछे वार कीजिए,

कुछ नहीं रखा है सद्भावना के गीत गाने में
युद्ध को अपने जीने का मकसद बना लीजिए।
मरने, मारने से न डरिए
सद्भावना का तनिक न विचार कीजिए
मिटने मिटाने का ख्याल जिंदा रखिए
सद्भावना के पुजारियों से निवेदन है
रुस यूक्रेन में चल रहे सद्भावना युद्ध का
भरपूर विस्तार करिए,

युद्ध को हमेशा आगे रखिए
सद्भावना को पर्दे में छिपा कर रखिए,
हम बेवकूफ नहीं हैं मेरे दोस्तों
दुनिया को यह भी बताते रहिए,
युद्ध और सद्भावना का मतलब कुछ ऐसा है
सबको समझाते रहिए।

Loudspeakerहिंदी कविता: प्रकृति का कहर

Loudspeakerहिंदी कविता: नारी एक ज्वाला

अगर आप की कोई कृति है जो हमसे साझा करना चाहते हैं तो कृपया नीचे कमेंट सेक्शन पर जा कर बताये अथवा [email protected] पर मेल करें.

कृपया कविता को फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और whats App पर शेयर करना न भूले, शेयर बटन नीचे दिए गए हैं। इस कविता से सम्बंधित अपने सवाल और सुझाव आप नीचे कमेंट में लिख कर हमे बता सकते हैं।

Author:

Sudhir Shrivastava
Sudhir Shrivastava

सुधीर श्रीवास्तव
गोण्डा, उ.प्र.