हिंदी कविता: न समय कम न काम ज्यादा

Na Samay Kam Na Kaam Jyaada
हिंदी कविता: न समय कम न काम ज्यादा | Na Samay Kam Na Kaam Jyaada | Hindi Poem | Hindi Poetry

हिंदी कविता: न समय कम न काम ज्यादा | Na Samay Kam Na Kaam Jyaada

समय का रोना नहीं रो रहा हूँ
बस ईमानदारी से बयां करता हूँ,
जीने की फिक्र नहीं है मुझे
जिंदा रहने के रास्ते तलाशता हूँ।

जाने क्यूं लगता है मुझे आजकल
संकेत मिल रहा है बार बार हर पल
समय कम है काम बहुत ज्यादा
डरता नहीं बस डगमगा रहा हूँ।

समय का क्या वो तो जन्म से ही
कम ही कम हर पल होता रहा है,
मैं नहीं डरता कल मरुँ या आज
मेरी ख्वाहिश मुझे बस आज मरना है।

चाहकर भी मेरे समय नहीं रुकेगा
मौत तो अपने समय पर ही आयेगी
समय कितना भी मिल जायेगा
फिर भी काम न पूरा हो पायेगा।

बस कोशिश यही करना मुझको
जो कर सकता हूँ करते ही रहना है,
जीने मरने की फिक्र नहीं मुझको
बस मरकर भी जिंदा ही रहना है।

समय कम ज्यादा में न उलझना मुझे
बस अपने कर्म करते जाना है मुझे
काम पूरा होगा या शेष रह जायेगा
यह सोचकर नहीं रुकना है मुझे ।

न समय कम है न ही काम ज्यादा
समय जो हमारा वो हमारा रहेगा
बस इतने ही समय में मेरे दोस्तों
इतिहास बनना और बनाना है मुझे।

Loudspeakerहिंदी कविता: प्रकृति का कहर

Loudspeakerहिंदी कविता: दोस्तों के नाम की शाम

Loudspeakerव्यंंग्य: राजनीति करना चाहता हूँ

अगर आप की कोई कृति है जो हमसे साझा करना चाहते हो तो कृपया नीचे कमेंट सेक्शन पर जा कर बताये अथवा [email protected] पर मेल करें.

कृपया कविता को फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और whats App पर शेयर करना न भूले, शेयर बटन नीचे दिए गए हैं। इस कविता से सम्बंधित अपने सवाल और सुझाव आप नीचे कमेंट में लिख कर हमे बता सकते हैं।

Author:

Sudhir Shrivastava
Sudhir Shrivastava

सुधीर श्रीवास्तव
गोण्डा, उ.प्र.