मानसिकता पर लघु कथा

Mansikta par Laghu Katha
लघु कथा मानसिकता | Short Story Mindset

लघु कथा मानसिकता | Short Story Mindset

पद्मा इन दिनों बहुत परेशान थी। पढ़ाई के साथ साथ साहित्य में अपना अलग मुकाम बनाने का सपना रंग ला रहा था। स्थानीय से लेकर राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय स्तर तक उसकी रचनाएं प्रकाशित हो रही थीं। जिसके फलस्वरूप उसे विभिन्न आयोजनों के आमंत्रण भी मिलने लगे।

परंतु उसके पापा इसके खिलाफ थे।

वे कहते कि शादी के बाद जो करना हो करना।अभी तो मुझे बख्शो। कुछ ऊँच हो जायेगी ,तो ……….।

पद्मा की माँ बेटी की भावनाओं और उसकी प्रतिभा को समझती थी,परंतु पति का विरोध करने की हिम्मत न थी।

अंततः पद्मा की शादी हो गई। उसने अपने पति से अपनी इच्छा जाहिर की। उन्होंने उसे पूरा सहयोग का आश्वासन भी दिया। क्योंकि उनका छोटा भाई भी जिले के मंचों का उभरता नाम था। कई बार माँ पिता के साथ वो भी उसके साथ आयोजन में उपस्थिति हुए। भाई का बढ़ता सम्मान उन्हें भी गौरवान्वित करता था। उसके कारण भी बहुत से लोग उनको अलग ही सम्मान की दृष्टि से देखते थे।

उन्होंने पद्मा को भाई के बारे में बताया तो वो बहुत खुश हुई।

रात में उसके देवर को जब जानकारी मिली तो उछल पड़ा- वाह भाभी! अब देखना कैसे आपके नाम का झंडा बुलंद होता है। नाम तो मैं भी सुनता रहा, पर ये पता नहीं था कि आप हमारे परिवार का हिस्सा बनोगी।

सच मैं बहुत खुश हूँ, अब मुझे भी घर में ही एक गुरू का सानिध्य मिलेगा।

पद्मा सोच रही थी कि सबकी अपनी अपनी मानसिकता है। किसी की विवशतावश तो किसी के विचारों और भावनाओंवश।

परंतु इसी मानसिकता के परिणाम स्वरुप कोई बहुत कुछ खो भी देता तो कोई बहुत कुछ पा भी जाता है।

LoudspeakerSHORT STORY जीवन: एक यात्रा

LoudspeakerSHORT STORY: लावारिस

अगर आप की कोई कृति है जो हमसे साझा करना चाहते हो तो कृपया नीचे कमेंट सेक्शन पर जा कर बताये अथवा [email protected] पर मेल करें.

कृपया लेख को फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और whats App पर शेयर करना न भूले, शेयर बटन नीचे दिए गए हैं। इस लेख से सम्बंधित अपने सवाल और सुझाव आप नीचे कमेंट में लिख कर हमे बता सकते हैं।

Author:

Sudhir Shrivastava
Sudhir Shrivastava

सुधीर श्रीवास्तव
गोण्डा, उ.प्र.