HINDI KAVITA: दिखावटी समाज

Last updated on: October 26th, 2020

दिखावटी समाज

मन को छुपा के रख
इस झूठे दिखावटी समाज से

जो मिलने का हक ना दे
जो खिलने का हक ना दे

जो बांध कर रखे
काली रात में काले कमरे मे जंग लगी बेडी के समान

जो अपने मान के लिए करवाए
भूतकाल वर्तमान और भविष्य का बलिदान

जो इस दीवार के बाहर गया
उसे निकाला गया समाज से

पर क्यों फंसे हुए है
हम इसके जाल मे

जो दिखा रहा है
यह अपना महान होने का रूप

और इंसानो मे ला रहा है
विभाजन का एक नया स्वरूप

Read Also:
HINDI KAVITA: दहेज प्रथा
HINDI KAVITA: पिता
HINDI KAVITA: पल
HINDI KAVITA: मुक्त ही करो
HINDI KAVITA: कमाल

अगर आप की कोई कृति है जो हमसे साझा करना चाहते हो तो कृपया नीचे कमेंट सेक्शन पर जा कर बताये अथवा [email protected] पर मेल करें.

यह कविता आपको कैसी लगी ? नीचे 👇 रेटिंग देकर हमें बताइये।

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...

कृपया फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और whatsApp पर शेयर करना न भूले 🙏 शेयर बटन नीचे दिए गए हैं । इस कविता से सम्बंधित अपने सवाल और सुझाव आप नीचे कमेंट में लिख कर हमे बता सकते हैं।

About Author:

नाम हेमंत सोलंकी है, निवासी दिल्ली का हूंँ। लेखक बनने का है सपना और शुद्ध कर सको समाज को यह अरमान है अपना। 🙏🏻😊