HINDI KAVITA: आज हिंदी भाषा परेशान हैं

आज हिंदी भाषा परेशान हैं

मैं उस देश की भाषा हूं
जिसका नाम भारत है

जो बटा है अनेक भाषाओं में
पर जुड़ा है मुझसे

मैं ना हिंदू की ना मुसलमान की
मैं भाषा हूं हिंदुस्तान की

मुझे वेदों में तब्दील कर या कुरान में
दोनों ही मुझ पर जचते हैं

मैं भाषा हूं हिंदुस्तान की
मुझ में सारे धर्म बसते हैं

बस कमी इतनी सी खलती है
क्यों नहीं हो रहा है मेरा अब विकास

सुना है आजकल कुछ विद्यालयों में चल रहा है
मेरे बोलने पर दंड का प्रावधान

मैं नहीं चाहती मैं अतीत बन जाऊं
ए परिंदों पकड़ लो मेरा हाथ

जिससे मैं भी विश्व भर में मशहूर हो जाऊ

हाय

हाय हाय होती है।
यह दुनिया सारी रोती है।

भागती हुई दुनिया में।
यह अपनी माला पर पिरोती है।

दुनिया में ना आने का सुख।
ना दुनिया से जाने का दुख।

हाय हाय करते हुए।
यह अपना जीवन खोती है।

हाय हाय होती है।
यह दुनिया सारी रोती है।

Read Also:
HINDI KAVITA: दहेज प्रथा
HINDI KAVITA: पिता
HINDI KAVITA: पल
HINDI KAVITA: मुक्त ही करो
HINDI KAVITA: कमाल

अगर आप की कोई कृति है जो हमसे साझा करना चाहते हो तो कृपया नीचे कमेंट सेक्शन पर जा कर बताये अथवा [email protected] पर मेल करें.

यह कविता आपको कैसी लगी ? नीचे 👇 रेटिंग देकर हमें बताइये।

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...

कृपया फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और whatsApp पर शेयर करना न भूले 🙏 शेयर बटन नीचे दिए गए हैं । इस कविता से सम्बंधित अपने सवाल और सुझाव आप नीचे कमेंट में लिख कर हमे बता सकते हैं।

About Author:

नाम हेमंत सोलंकी है, निवासी दिल्ली का हूंँ। लेखक बनने का है सपना और शुद्ध कर सको समाज को यह अरमान है अपना। 🙏🏻😊