Narendra Modi Par Kavita

Narendra Modi Par Kavita
Narendra Modi Par Kavita | नरेंद्र मोदी पर कविता | Hindi Poetry | Hindi Poem | Hindi Kavita

Narendra Modi Par Kavita | नरेंद्र मोदी पर कविता


प्रधानमंत्री आ. नरेंद्र मोदी जी के जन्मदिन पर विशेष नमो नमो

शांत सौम्य दृढ़ निश्चयी
समुद्र सा गहरा हिमालय सा ऊँचा,

गरीब परिवार का बालक
अपनी जिजीविषा के दम पर

सत्ता के शीर्ष पर विराजित
अनेकों कुचक्रों का का विषपान कर
जैसे शिवत्व को पा गया।

अपनी जिद को अवसर बनाया
जितना पीछे ढकेला गया
उतना और आगे बढ़ता गया।

सबके दिलों मे उतरता गया
आज पूरी दुनियां में छा गया
अपनी कार्यशैली से संसार में

छा गया सबको मोहित कर लिया
अपना मुरीद बना लिया,
जीते जी खुद को अमर कर लिया
अद्भुत व्यक्तित्व के रुप में एक अकेला
सब पर भारी पड़ गया।

एक तरफ सबका चहेता तो
दूसरी ओर खौफ और जूनून का
पर्याय भी आखिर बन गया,

अपनी माँ की कोख को
अमरता का अहसास करा दिया,
संत सरीखा जीवन जीता
पुरुषार्थ को नवमार्ग दे दिया ।

LoudspeakerHINDI KAVITA: भारतीय मीडिया

LoudspeakerHINDI KAVITA: लौटकर नहीं आओगी

अगर आप की कोई कृति है जो हमसे साझा करना चाहते हो तो कृपया नीचे कमेंट सेक्शन पर जा कर बताये अथवा [email protected] पर मेल करें.

कृपया कविता को फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और whats App पर शेयर करना न भूले, शेयर बटन नीचे दिए गए हैं। इस कविता से सम्बंधित अपने सवाल और सुझाव आप नीचे कमेंट में लिख कर हमे बता सकते हैं।

Author:

Sudhir Shrivastava
Sudhir Shrivastava

सुधीर श्रीवास्तव
गोण्डा, उ.प्र.