हाइकू: धर्म-अधर्म

धर्म-अधर्म

धर्म अधर्म
विचार तो कीजिये,
आगे बढ़िए।
^^^^^^^^^^^

धर्म बेधर्म
मत करिए भाई
संयम रखें
^^^^^^^^^^^

धर्मानुरागी
प्रेरक व्यक्तिव
सदविचारी
^^^^^^^^^^^

धर्म का अंधा
अंधानुकरण नहीं
विचार करो।
^^^^^^^^^^^

अधर्मियों का
गलत मार्ग होगा
बच के रहो।
^^^^^^^^^^^

अधर्मी कभी
सत्य के पथ पर
आ सकता है
^^^^^^^^^^^

धर्म को चोखा
धंधा न बनाइये
रहने भी दें।
^^^^^^^^^^^

Read Also:
हिंदी कविता: कभी न होगी उन्नति
हिंदी कविता: लगता नहीं मेरा मन
हिंदी कविता: सहारा
हिंदी कविता: सब अपने ही भाई हैं
हिंदी कविता: कण कण में प्रभु

अगर आप की कोई कृति है जो हमसे साझा करना चाहते हो तो कृपया नीचे कमेंट सेक्शन पर जा कर बताये अथवा [email protected] पर मेल करें.

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...

About Author:

सुधीर श्रीवास्तव
शिवनगर, इमिलिया गुरूदयाल
बड़गाँव, गोण्डा, उ.प्र.,271002