HINDI KAVITA: मेरी मातृ भूमि

Last updated on: September 28th, 2020

मेरी मातृ भूमि

वो जो शौर्य का शिखर हुयी
वो जो शत्रुओं का डर हुयी
वो काल थी हर काल का
सूरज थी वो स्वराज्य का
जो मिट गयी माटी पे थी
मैं इस माटी की वो बेटी होना चाहती हूँ
हाँ मैं लक्ष्मीबाई होना चाहती हूँ |

वो जो मेरी मातृ भूमि को जान से प्यारा है
वो जो सारे राष्ट्र का सबसे दुलारा है
वो जो इन्क़लाब के नारे पर 
अपना सर्वस्व बिछा गया
वो जो फाँसी चूम कर
अंग्रजों का सिंघासन हिला गया
मैं इस माटी का वो बेटा होना चाहती हूँ
हाँ मैं भगत सिंह होना चाहती हूँ |

बन गया जो स्वयं ही ढाल
माटी की रक्षा करने को
मैं वो ढाल होना चाहती हूँ
हाँ मैं चंद्र शेखर सा वो विश्वास होना चाहती हूँ |

सक्षम बनाया राष्ट्र को 
दुश्मन से रक्षा के लिये
कर दिया जीवन न्योछावर
राष्ट्र सुरक्षा के लिये
हाँ मैं इस राष्ट्र का गौरव कलाम होना चाहती हूँ।।

Read Also:
STORY: समाज में नारी शक्ति का अस्तित्व
कविता : वो लाड़ली जनक की दुलारी

About Author:
मेरा नाम प्रतिभा बाजपेयी है. मैं कई वर्षों से कविता और कहानियाँ लिख रही हूँ, कविता पाठ मेरा Passion है । मैं बी•एड की छात्रा हूँ और सहित्य मे मेरी गहरी रुचि है।

अगर आप की कोई कृति है जो हमसे साझा करना चाहते हो तो कृपया नीचे कमेंट सेक्शन पर जा कर बताये अथवा [email protected] पर मेल करें.