Vastu Tips for study room

study table
Image Source: Social Media

कहा जाता है मानव पहले समय में बन्दर हुआ करते है तो ऐसा क्या था जिसने मानव प्रजाति को अन्य प्रजातियों से अलग कर दिया , और उन्हें सभी प्रजातियों में सबसे श्रेष्ठ बना दिया| वो था ज्ञान ,सीखने की प्रक्रिया और अबलोकन का सामर्थ्य |

Study Room:

हम सब जानते है की सीखने क पहली प्रकिया है पढ़ना|अध्ययन के लिए बहुत अधिक ध्यान, एकाग्रता आवश्यकता होती है, सीखने की इस पद्धति की आवश्यकता है एक ऐसा स्थान जहां दिमाग शांत, गंभीर और तीव्र रहे ,एक ऐसी जगह जो मस्तिष्क की अवधारण शक्ति को बढ़ाती है; एक ऐसी जगह जहां जो क आराम दायक हो और जहाँ बिना अशांति के पढ़ा लिखा जा सके |

उस जगह को आप “Study Room” कहते हैं।

Study Room की घर में क्या स्थिति होनी चाहिए(Study Room as per Vastu):

प्रत्येक घर में अलग अलग गतिविधि के लिए एक समर्पित स्थान या कमरा होता है – उसी तरह से Study Room भी होना चाहिए जहाँ आपके बच्चे ज्ञान प्राप्त करने पर ध्यान केंद्रित कर सकें, Study room for Kids और स्टडी टेबल (Study table for Kids) बच्चों के स्टडी रूम का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। जहाँ भी Study Table रखा गया है आपको यह सुनिश्चित करना चाहिए कि यह वास्तु नियमों और दिशानिर्देशों का अनुपालन किया गया है या नहीं |जिससे पढ़ने वाले व्यक्ति को या बच्चे को अध्ययन के प्रयासों में अधिकतम और सर्वोत्तम परिणाम मिले।

इस आर्टिकल में हम आपको बताएँगे वास्तु अनुकूलन स्टडी टेबल (Study table as per Vastu) का स्थान और इससे जरूरी कुछ और बातें| आमतौर पर बच्चे को वास्तु सम्बंधित बातों का ज्ञान नहीं होता उनके लेकिन माँ बाप को इस बात पर विशेष ध्यान देना चाहिए |

क्या करें
1. बुध उत्तर दिशा में शासन करता है। सूर्य पूर्व दिशा को नियम देता है। बृहस्पति उत्तर दिशा को नियंत्रित करता है। पूर्व दिशा विकास, उन्नति, यश और समृद्धि देती है। उत्तर दिशा बुद्धि, आत्म-सीखने की क्षमता देती है, और उत्तरपूर्व अनुसंधान-कार्य आदि का समर्थन करता है। इसलिए पढ़ाई हमेशा उत्तर या पूर्व दिशा में बैठकर करनी चाहिए | इसलिए Study Table भी उसी अनुकूल रखनी चाहिए |
2. हमेशा सुनिश्चित करें कि Study Table चौकोर (Rectangular)या आयत (square)आकार में हो। आयत बेहतर है। उदहारण के लिए यदि Study Table आयताकार है, तो सुनिश्चित करें कि लंबाई और चौड़ाई 1: 2 से अधिक नहीं हो , यदि स्टडी टेबल की लंबाई 4 फीट है तो चौड़ाई 2 फीट और 8 फीट के बीच होनी चाहिए।
3. लकड़ी को शुभ अशुभ से जोड़ा जाता है, इसलिए Study Table के लिए सर्वोत्तम गुणवत्ता वाली लकड़ी का उपयोग करें।
4. Study Table को दीवार से कम से कम 3-4 इंच की दूरी पर रखें। छात्र के सामने एक खुली जगह होनी चाहिये , कहा जाता है इससे दिमाग में नये और अच्छे विचार दिमाग में आते हैं।
5. यदि आवश्यक हो तो Study Table के दक्षिण-पूर्व भाग में Table Lamp रखें।
6. उपयुक्त दिशा, अध्ययन के विषय और व्यक्तिगत कुंडली (जन्म कुंडली) दोनों पर निर्भर करती है। प्रत्येक दिशा विभिन्न प्रकार के कौशल को सुधारने में छात्रों की मदद करती है। जैसे पश्चिम (शनि) की मदद के बिना, एक छात्र अपनी पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित नहीं कर सकता है।एकाग्रता में सुधार करने के हेतु पश्चिम की दिशा की ओर देखकर पढ़ना चाहिए इससे गणित और विज्ञान में दक्षता हासिल होती है | यदि कोई दक्षिण का सामना कर रहा है, तो वह अच्छे वाद-विवाद कौशल, गणित में तार्किक क्षमता का विकास कर पाता है |
7. Study Table को टीवी, वॉशिंग-मशीन की आवाज़ से बचाएँ । अन्यथा, ये आवाज़ निश्चित रूप से बच्चे को पढ़ाई से विचलित कर देगी। अपने बच्चे की पढ़ाई के लिए शांत वातावरण को प्राथमिकता दें। इससे उनकी पढ़ाई में मदद मिलती है।

Also Read: Vastu for Kitchen

किस चीज से बचाव करें

1. किसी किरण के नीचे अध्ययन करना या सोना वास्तु शास्त्र में गलत बताया गया है। यह अध्ययन के दौरान एकाग्रता शक्ति को कम करता है |
2. अंडाकार, वृत्ताकार या अन्य अनियमित आकार के Study Table रखने से बचें क्यूँकि ये शुभ नहीं माने जाते |
3. उन Study Table से बचें, जिनमें ग्लास जड़े होते हैं।
4. अध्ययन करते समय छात्र के सामने एक खाली दीवार न हो इस बात का विशेष ध्यान रखें ।

Study Table के लिए इन सभी वास्तु सुझावों को ध्यान में रखें और आप निश्चित रूप से अध्ययन के परिणाम में अंतर महसूस करेंगे।